Mark Zuckerberg success story & Biography in hinidi

फेसबुक के मालिक Mark zuckerberg की success story

दोस्तों लोग अक्सर कहते हैं कि आप छोटी उम्र में कुछ नहीं कर सकते हैं क्योंकि छोटी उम्र में ना आपके पास समझदारी होती है| और ना ही कोई काबिलियत होती है लेकिन आज हम आपको ऐसे व्यक्ति की success story & Biography in hinidi बताने वाले हैं जिसने  इस छोटे बड़े की सोच को बदल कर रख दिया है|और उन्होंने जो काम किया वह बहुत ही काबिलेतारीफ है उनका नाम है फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग Mark Zuckerberg Popular social networking site facebook  के CEO है |

 

आज इस आर्टिकल में हम फेसबुक के ceo Mark Zuckerberg के बारे में विस्तार से जानने वाले हैं हम आपको उनके बचपन से लेकर उन्होंने किस तरह से सफलता हासिल की और सफलता हासिल करने के लिए  उन्हें किन-किन असफलताओं का सामना करना पड़ा हम आज आपको सब कुछ बताएंगे आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें Mark Zuckerberg success story & Biography in hinidi.

Mark Zuckerberg success story & Biography in hinidi-फेसबुक के मालिक Mark zuckerberg की success story

 

Mark Zuckerberg की बचपन की कहानी

Mark Zuckerberg का जन्म 14 मई 1984 मैं Newyork में स्थित Dobbs Ferry में हुआ था मार्क जुकरबर्ग घर में इकलौते बेटे थे और उनकी तीन बहने भी थी Mark Zuckerberg के पिता का नाम Edwardck Zuerberg  है और बे एक dentist है उनकी मां का नाम Karen Zuckerberg है और वह एक साइकैटरिस्ट है मार्क जुकरबर्ग के पिता का dentist का क्लीनिक है जो घर के पास ही है यहां वह मरीज देखते हैं|

Mark Zuckerberg बचपन से ही पढ़ने लिखने में बहुत अच्छे थे और उन्हें  बचपन से ही programming में ज्यादा रुचि थी और सबसे पहले Mark Zuckerberg ने अपने पापा से programming सीखा उनके पिता Atari BASIC programming पढ़ाया करते थे |

मार्क जुकरबर्ग ने 12 साल की उम्र में ही एक massanger बनाया जिसका नाम उन्होंने ”zucknet” रखा है इस software के जरिए घर के सभी कंप्यूटर को एक साथ जोड़ कर घर के सभी लोग मैसेज को घर के अंदर और पिता के क्लीनिक में ट्रांसफर कर बात करते थे और Mark Zuckerberg  के पिता ने अपने कंप्यूटर में इसे install कर लिया और वह अपने clinic में इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया करते थे वह सॉफ्टवेयर के जरिए वह आने वाले पेशेंट के बारे में जानकारी लेते थे |

सके बाद मार्क जुकरबर्ग के पिता ने उनके बेटे की काबिलियत को बढ़ाने के लिए एक टीचर बुलाया जो मार्क जुकरबर्ग को programming सिखाते थे और वह टीचर बहुत हैरान होते थे क्योंकि  Mark Zuckerberg  programming बहुत तेजी से सीखा करते थे क्योंकि जिस उम्र में बच्चे पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं बल्कि खेलकूद में ध्यान देते हैं उस उम्र में मार्ग जुकरबर्ग अपने दोस्तों के लिए वीडियो गेम्स बनाया करते थे|

मार्क जुकरबर्ग अपने हाईस्कूल में सबसे talented and popular बच्चे थे उन्हें science और लिटरेचर सब्जेक्ट में बहुत सारे award भी मिले थे और जब वह अपने हाईस्कूल में थे तब उन्होंने MP3 मीडिया प्लेयर बनाया जिसका नाम synapse रखा उसके बाद बहुत बड़ी कंपनी it कंपनी microsoft और AOL ने इस मीडिया प्लेयर में रुचि दिखाने लगे और उसे खरीदने के लिए Mark Zuckerberg को बहुत सारे पैसे देने के लिए तैयार हो गए लेकिन मार्क जुकरबर्ग ने इसे बेचने से मना कर दिया|

Mark Zuckerberg  ने Facemash का आविष्कार किया

 

स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद Mark Zuckerberg ने Harvard University में एडमिशन ले लिया और यूनिवर्सिटी में Mark Zuckerberg software developer के रूप में बहुत पॉपुलर थे और सभी स्टूडेंट उन्हें जानते थे उसके बाद 2003 में मार्क जुकरबर्ग ने एक वेबसाइट बनाई जिसका नाम facemash था और यह वेबसाइट बनाने के लिए उन्होंने अपने यूनिवर्सिटी के database को हैक कर लिया|
 
और कॉलेज के डाटा से वहां पढ़ने वाले स्टूडेंट के photo को अपने साइड में डाली यह एक ऐसा प्रोग्राम था जो अपने आप ही 2 लड़के या किसी दो लड़कियों के फोटो को सिलेक्ट करता था और उन में से कौन सबसे ज्यादा सुंदर है या अच्छा दिख रहा है उसके लिए voting करने को कहता था|
 
इस साइट पर आने वाले लोग यूनिवर्सिटी के ही स्टूडेंट थे और सभी वोट करते थे उसके बाद धीरे-धीरे इस साइट पर बहुत ज्यादा ट्राफिक आने लगा इस वजह से यूनिवर्सिटी का server crash हो गया उसके बाद Mark Zuckerberg को यूनिवर्सिटी की टीचर प्रिंसिपल ने बहुत डांटा और उनकी यह साइड बंद करवा दी|

Mark Zuckerberg ने Facebook  कैसे बनाई 

 

जब मार्क जुकरबर्ग की facemash वेबसाइट बंद हो गई और उनके साथ यह incident हुआ उसके बाद Harvard University का एक student divya narendra मार्क जुकरबर्ग के पास आया और Divya के पास एक social networking site create का आईडिया था और Divya के साथ दो और पार्टनर भी आए थे दिव्या ने मार्क जुकरबर्ग से कहा कि वह इस साइट को यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट के लिए बनाना चाहते हैं|

जिसका नाम Harvard connection होगा उसके बाद इसका नाम connection4u रखा गया उन्होंने कहा कि site से जुड़े जितने भी लोग होंगे सभी इंटरनेट के जरिए अपने फोटो और personal information एक दूसरे के साथ शेयर कर सकते हैं और जब मार्क जुकरबर्ग ने यह idea सुना तो उन्होंने तुरंत हां कर दिया और इस पर काम करना शुरू कर दिया|

और मार्क जुकरबर्ग को इस Project पर काम करने के दौरान उन्हें खुद का ही एक social networking site  शुरू करने का idea सूजा और 2004 में मार्क जुकरबर्ग ने एक domain The facebook.com  खरीद लिया जिसे आप सभी लोग फेसबुक के नाम से जानते हैं  तो इस तरह से फेसबुक की शुरुआत हुई जब फेसबुक की शुरुआत हुई तब university ke student फेसबुक का इस्तेमाल करते थे स्टूडेंट यहां पर अपनी प्रोफाइल बनाते थे और अपनी फोटो यहां पर शेयर करते थे|

उसके बाद 2005 में फेसबुक की popularity बढ़ती गई और usa के सभी यूनिवर्सिटी में फेसबुक का इस्तेमाल होने लगा उसके बाद  मार्क जुकरबर्ग ने अपनी वेबसाइट की popularity देखी और उन्होंने फैसला लिया कि आप दुनिया के सभी लोग इसका इस्तेमाल कर सकते हैं उन्होंने अपनी graduation में ही छोड़ दी और अपनी इस project पर पूरा ध्यान देने लगे |

उसके बाद दुनिया के सभी लोग फेसबुक को बहुत पसंद करने लगे क्योंकि यहां पर हर व्यक्ति अपने दोस्तों के साथ जुड़ने लगा और अगर कोई किसी दोस्त से दूर हो जाता तब भी उनसे फेसबुक के जरिए जुड़े रह सकते हैं और बात कर सकते हैं इसलिए लोगों को  फेसबुक बहुत पसंद आने लगा और आज फेसबुक पर 1 बिलियन से भी ज्यादा User है |

 

Facebook बनाने के बाद 

Mark Zuckerberg ने जब फेसबुक वेबसाइट को बनाया था तब उनकी उम्र 19 साल थी और उन्होंने इतनी छोटी सी उम्र में पूरी दुनिया को एक साथ जोड़ कर रख दिया था और आज वह दुनिया के youngesh billionaries  में से एक है उसके बाद 2010 में उन्हें Time person of the year का award भी मिला था और Forbes maczine के मुताबिक दुनिया  10 सबसे अमीर आदमी की लिस्ट में मार्क जुकरबर्ग भी शामिल है|
 
दोस्तों मार्क ज़ुकेरबर्ग ने लोगों की सोच को मिटा कर रख दिया कि आप छोटी उम्र में कुछ नहीं कर सकते हैं अगर आप मेहनत करते हैं अगर आप समझदार हैं तो आप छोटी उम्र में भी बहुत कुछ कर सकते हैं|

Mark Zuckerberg wife 

मार्क जुकरबर्ग की वाइफ का नाम प्रिसिला चान (Priscilla Chan) है|

Mark zuckerberg Daughter

मार्क जुकरबर्ग की दो बहुत ही प्यारी बेटियां हैं|

 

आज आपने क्या जाना

दोस्तों उम्मीद करते हैं हमारे इस आर्टिकल को पढ़कर आपको पता चल गया होगा मार्क जुकरबर्ग की Mark Zuckerberg success story & Biography in hinidi और हमने उनके आविष्कार के बारे में भी बताया है और किस तरह से फेसबुक की शुरुआत हुई यह भी बताया|
 
अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर कर सकते हैं ताकि आपके दोस्तों को भी इनके जीवन के बारे में पता चल सके और वह भी प्रेरित हो सके दोस्तों आप भी अपनी छोटी सी उम्र में बहुत कुछ कर सकते हैं तो समझदार बनिए और समझदारी से मेहनत करिए|
 


Read more articles:-

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!